YOUNG INDIAN WARRIORS

युवा भारत की दमदार आवाज : के.कुमार 'अभिषेक'

52 Posts

92 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18250 postid : 834417

शिक्षित कौन है?

Posted On: 11 Jan, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक प्रश्न जो पिछले काफी दिनों से मुझे परेशान किये जा रहा है, शिक्षित कौन है? संभव है की यह प्रश्न कई लोगों के लिए अत्यंत हास्यास्पद हो, क्योंकि बेहद सामान्य अवधारणा है कि, वह इंसान जो हमारी शिक्षा पद्धति के अनुसार अध्ययन के पश्चात परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त कर, ‘प्रमाणपत्र’ का हक़दार बनता है, वही शिक्षित है! लेकिन जब भी हम शिक्षा के बुनियादी उदेश्यों और ज्ञान के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए, इस प्रश्न का हल ढूढ़ने का प्रयास करते हैं, देश के शैक्षणिक वातावरण कि एक चिंताजनक तस्वीर परिलक्षित होती है! आज जिस तरह से हमारे समाज में सामाजिक, आर्थिक, व्यवहारिक, व्यवसायिक, नैतिक और धार्मिक भ्रष्टाचार बढ़ रहा है ! जिस तरह अपने आपको शिक्षित कहने वाले लोग, धोखाधड़ी, जालसाजी, अपहरण, बलात्कार और विभिन्न समाज व् राष्ट्र को कलंकित करने वाले भ्रष्ट् कर्मो में लिप्त हो रहे है, अपने आपको ‘ज्ञानी’ कहने वाले लोग..लोभ, लालच, और द्वेष जैसे मानवीय अवगुणो के प्रभाव में लगातार मानवता और इंसानियत को शर्मसार कर रहे हैं, …..मुझे बेहद आश्चर्य है कि, ऐसे लोग शिक्षित कैसे हो सकते है? जबकि ऐसा अशिष्ट और घृणित ज्ञान किसी भी कक्षा के किसी भी पुस्तक में नहीं मिलता है!
आज हम अपनी शिक्षा पद्धति के माध्यम से शिक्षा प्राप्त कर विभिन्न विषयों में बड़ी-बड़ी डिग्रियों के प्रमाणपत्र प्राप्त करते है, और उन्ही प्रमाणपत्रों के आधार पर हम सरकारी, अर्द्धसरकारी और निजी क्षेत्र की नौकरियों में प्रतिनियुक्त होते हैं! प्रतिनियुक्ति के पश्चात हम उन्ही भ्रष्ट कार्यों में लग जाते है, जिसकी मनाही हमारी पाठ्य पुस्तकों में की गयी है! इस तरह हम लगातार पाठ्य पुस्तकों से प्राप्त ‘ज्ञान’ को दरकिनार कर असामाजिक, अनैतिक और अपराधिक कार्यशैली को जीवन का आधार बना लेते है, और जब भी शिक्षा की बात आती है…प्रमाणपत्रों को आगे कर अपने आपको शिक्षित भी साबित कर लेते हैं! स्पष्ट है की हम भारतीय सिर्फ और सिर्फ प्रमाणपत्रों में ही शिक्षित है ! हमारी शिक्षा सिर्फ और सिर्फ कागज के कुछ पन्नों का स्वरुप भर है! पाठ्यक्रम में सिखाई अच्छी बातों, मानवीय मूल्यों, और आदर्श जीवन के सिद्धांतों के लिए हमारे वास्तविक जीवन में कोई जगह नहीं है! परिस्थिति की गंभीरता को देखते हुए हमें चिंतन करना होगा कि, इस परिस्थिति के लिए जिम्मेदार कौन हैं? हमें समझने का प्रयत्न करना होगा कि, जिस शिक्षा ने एक इंसान के रूप में हमारा मह्त्व सिद्ध किया , वही शिक्षा हमारे जीवन में महत्वहीन कैसे हो गई ? ‘शिक्षा’ सिर्फ प्रमाणपत्र आधारित औपचारिकता क्यों बन गयी?
इस सन्दर्भ में हालात कि वास्तविकता और परिस्थिति कि गंभीरता को समझने का प्रत्य करें तो, हम पाएंगे कि आज हमारे भारतीय समाज में शिक्षा का उदेश्य ‘ज्ञानोपार्जन’ नहीं, अपितु ‘धनोपार्जन’ हो गया है! आज छात्र, अभिभावक, और गुरु …तीनो के लिए शिक्षा का औचित्य सिर्फ और सिर्फ प्रमाणपत्रों कि प्राप्ति रह गया है, जिससे नौकरी या, व्यवसाय के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाया जा सके! कड़वी परन्तु वास्तविक सचाई है कि, आज हमारे जीवन में पाठ्य पुस्तकों कि सिखाई गयी बातों का कोई महत्वा नहीं है! एक इंसान के रूप में हमारे कर्तव्यों और सामर्थ्यवान जीवन के सिद्धांतों कि जो सिख हमारी पुस्तकों में मिलती है, आज छात्रों के लिए सिर्फ और सिर्फ परीक्षा कि वस्तु मात्र है! आज छात्र सिर्फ पाठ्य पुस्तकों को रट्टा मार रहे है, जिससे वे परीक्षा में पूछे गए सवालों का सही जवाब देकर अच्छे अंक प्राप्त कर सकें.! एक बार परीक्षा समाप्त हुई …पुस्तकों कि पढ़ी गयी बातों को हम अपनी सोच के दायरे से बाहर निकल फेंकते है ..!

आज इस देश के हर नागरिक को इस विषय कि गंभीरता को समझना होगा, मुख्य रूप से अभिभावकों को अपनी सोच को लेकर बेहद गंभीर चिंतन करने कि आवश्यकता है.! आज परिस्थितियां निश्चय ही सामान्य दिख रही है..लेकिन हमारे देश में एक ऐसा वर्ग भी तैयार हो रहा है, जिसका मानना है कि जब से भारतीय समाज में शिक्षा का प्रचार-प्रसार हुआ है, जैसे-जैसे लोग शिक्षित हुए है…देश में भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी-जालसाजी, और हर प्रकार कि अपराधिक, असामाजिक, अनैतिक गतिविधियाँ बढ़ी है! लोगो में लोभ,लालच, द्वेष-जलन, अहंकार, जैसे अमानवीय अवगुणों का प्रभाव बढ़ा है! ‘शिक्षा’ ने हमारे समाज को पथभ्रष्ट करने का कार्य किया है! विश्वास कीजिये..आंकड़ें बेहद मजबूती के साथ इस अवधारणा को बल भी देते नजर आते है! हकीकत तो यही है कि जिस शिक्षा में एक इंसान के रूप में हमें मानवीय विकास कि नयी राह दिखाई, उसी ज्ञान को हम अपने दिशाहीन बना चुके हैं!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
January 12, 2015

प्रिय अभिषेक जी, सादर अभिवादन! आपने एक बेहद चिंतनीय विषय की तरफ इशारा किया है …जैसे-जैसे लोग शिक्षित हुए है…देश में भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी-जालसाजी, और हर प्रकार कि अपराधिक, असामाजिक, अनैतिक गतिविधियाँ बढ़ी है! लोगो में लोभ,लालच, द्वेष-जलन, अहंकार, जैसे अमानवीय अवगुणों का प्रभाव बढ़ा है! ‘शिक्षा’ ने हमारे समाज को पथभ्रष्ट करने का कार्य किया है!…निदान तो हम सभी को मिलकर तलाशना होगा अन्यथा जो हो रहा है उसके परिणाम भुगतने को भी तैयार रहना होगा.

OM DIKSHIT के द्वारा
January 31, 2015

प्रिय अभिषेक जी, आप के द्वारा विचारणीय एवं अच्छा बिंदु उठाया गया है.

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
January 31, 2015

अभिषेक जी गीता मैं भगवान क्रष्ण ने अध्यात्म ज्ञान को ही ज्ञान कहा है वाकी सब अज्ञान । नैतिक शिक्षा के पक्षधर नैतिक शिक्षा को ही ज्ञान कहते हैं । नैतिक शिक्षा संस्कारों से भी मिलती है । संस्कार पुर्व जन्म से भी होते हैं । जीवन एक कला है कैसे उत्तम जीवन जी सकले हैं यह चतुर लोग ही जानते हैं । उनके लिए डिग्रीयां हासिल कर लेना भी एक कला ही है । नौकरी या व्यवसाय ,राजनीति भी एक कला ही है । शिक्षा की परिभाषा अपने क्षेत्र मैं प्रवीण होना ही है । यदि आप अपने क्षेत्र मैं प्रवीण हो चुके हैं तो आप उस क्षेत्र के शिक्षित हैं । जैसे हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जी । ओम शांति शांति

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
January 31, 2015

अभिषेक जी गीता मैं भगवान क्रष्ण ने अध्यात्म ज्ञान को ही ज्ञान कहा है वाकी सब अज्ञान । नैतिक शिक्षा के पक्षधर नैतिक शिक्षा को ही ज्ञान कहते हैं । नैतिक शिक्षा संस्कारों से भी मिलती है । संस्कार पुर्व जन्म से भी होते हैं । जीवन एक कला है कैसे उत्तम जीवन जी सकले हैं यह चतुर लोग ही जानते हैं । उनके लिए डिग्रीयां हासिल कर लेना भी एक कला ही है । नौकरी या व्यवसाय ,राजनीति भी एक कला ही है । शिक्षा की परिभाषा अपने क्षेत्र मैं प्रवीण होना ही है । यदि आप अपने क्षेत्र मैं प्रवीण हो चुके हैं तो आप उस क्षेत्र के शिक्षित हैं । जैसे हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जी । ओम शांति शांति शांति 

sadguruji के द्वारा
January 31, 2015

बहुत सार्थक और विचारणीय लेख ! बेस्ट ब्लॉगर आफ दी वीक चुने जाने की बधाई !

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
February 1, 2015

.अभिषेक जी गीता मैं भगवान क्रष्ण ने अध्यात्म ज्ञान को ही ज्ञान कहा है वाकी सब अज्ञान । नैतिक शिक्षा के पक्षधर नैतिक शिक्षा को ही ज्ञान कहते हैं । नैतिक शिक्षा संस्कारों से भी मिलती है । संस्कार पुर्व जन्म से भी होते हैं । जीवन एक कला है कैसे उत्तम जीवन जी सकले हैं यह चतुर लोग ही जानते हैं । उनके लिए डिग्रीयां हासिल कर लेना भी एक कला ही है । नौकरी या व्यवसाय ,राजनीति भी एक कला ही है । शिक्षा की परिभाषा अपने क्षेत्र मैं प्रवीण होना ही है । यदि आप अपने क्षेत्र मैं प्रवीण हो चुके हैं तो आप उस क्षेत्र के शिक्षित हैं । जैसे हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जी । ओम शांति शांति ………………………………..

jlsingh के द्वारा
February 3, 2015

साप्ताहिक सामन बेस्ट ब्लॉगर के लिए बधाई! आपके विचार और लेखन शैली अचूक है …लिखते रहें! जन जागरण का काम है यह … साधुवाद !

yamunapathak के द्वारा
February 3, 2015

प्रिय अभिषेक इस ब्लॉग को अख़बार में भी पढ़ा था बेस्ट ब्लॉगर की बहुत बहुत बधाई ….आजकल माय GOV में शिक्षा नीति पर कुछ सुझाव आमंत्रित किये जा रहे हैं आप अपनी बात उन तक अवश्य पहुँचाओ यह ब्लॉग बहुत ही श्रेष्ठ है साभार

yogi sarswat के द्वारा
February 3, 2015

आज हमारे भारतीय समाज में शिक्षा का उदेश्य ‘ज्ञानोपार्जन’ नहीं, अपितु ‘धनोपार्जन’ हो गया है! आज छात्र, अभिभावक, और गुरु …तीनो के लिए शिक्षा का औचित्य सिर्फ और सिर्फ प्रमाणपत्रों कि प्राप्ति रह गया है, जिससे नौकरी या, व्यवसाय के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाया जा सके! कड़वी परन्तु वास्तविक सचाई है कि, आज हमारे जीवन में पाठ्य पुस्तकों कि सिखाई गयी बातों का कोई महत्वा नहीं है! एक इंसान के रूप में हमारे कर्तव्यों और सामर्थ्यवान जीवन के सिद्धांतों कि जो सिख हमारी पुस्तकों में मिलती है, आज छात्रों के लिए सिर्फ और सिर्फ परीक्षा कि वस्तु मात्र है! आज छात्र सिर्फ पाठ्य पुस्तकों को रट्टा मार रहे है, जिससे वे परीक्षा में पूछे गए सवालों का सही जवाब देकर अच्छे अंक प्राप्त कर सकें.! एक बार परीक्षा समाप्त हुई …पुस्तकों कि पढ़ी गयी बातों को हम अपनी सोच के दायरे से बाहर निकल फेंकते है ..!बहुत सटीक और प्रभावी लेखन मित्रवर अभिषेक जी !


topic of the week



latest from jagran